Top 4 Real life Inspirational Stories in hindi for students || true life motivational story in hindi

real life inspirational short stories in hindi


Chanakya Niti, Ten Things to Do: आचार्य चाणक्य कहते हैं कि व्यक्ति को कभी सीधा नहीं होना चहिए. चाणक्य ने कुछ इस तरह से उदाहरण दिया है कि जंगल में जो पेड़ सबसे सीधे और चिकने होते हैं उन्हें काटने में समस्याएं नहीं आती, इसलिए उन्हें सबसे पहले काट दिया जाता है.

आचार्य चाणक्य ने जीवन की मुश्किलों को पार करने के लिए अपने नीतिशास्त्र में कई उपायों का जिक्र किया है. जिसे अपनाकर इंसान हर परिस्थिति में बिना डगमगाए एक अच्छी जिंदगी जी सकता है. उन्होंने अपनी नीति में कई ऐसी बातें बताई हैं जिसे अपनाकर जीवन को सफल बनाया जा सकता है. आइए आयार्य चाणक्य के बताए ऐसे ही 10 उपायों के बारे में बताते हैं जिस पर अमल कर आप अपना जीवन सफल बना सकते हैं.

Dhirubhai Ambani About biography in Hindi Dhirajlal Hirachand Ambani


Real Inspirational stories in hindi Dhirubhai Ambaniपूर्ण Dhirajlal Hirachand Ambani में, (जन्म 28 दिसंबर, 1932, चोरवाड़गुजरातब्रिटिश भारत- 6 जुलाई, 2002, मुंबईभारत)भारतीय उद्योगपतिजो रिलायंस इंडस्ट्रीज के संस्थापक थेएक विशाल पेट्रोकेमिकलसंचार। बिजलीऔर कपड़ा समूहजो भारत में सबसे बड़ा निर्यातक था और फॉर्च्यून 500 में पहली निजी स्वामित्व वाली भारतीय कंपनी थी।


 

Reated Video:-


The Real Story of Gangubai Kathiawadi
gangubai kathiawadi story in hindi एक भारतीय अपराधीडॉनसेक्स वर्करबिजनेसवुमन थीकुल मिलाकरकाठियावाड़भारत का एक विवादास्पद व्यक्ति। उसने हेरा मंडी रेड लाइट जिले में एक सेक्स रैकेट संचालित किया। वह 60 के दशक के दौरान मुंबई में एक बहुत प्रभावशाली व्यक्ति थीं।

gangubai kathiawadi statue गंगा हरजीवन दास काठियावाड़ी का जन्म 1939 में काठियावाड़ में हुआ था। वह एक अच्छी तरह से बसे परिवार से आई थीअपने परिवार की एकमात्र लड़की थी। इस प्रकार वह अपने माता-पिता द्वारा लाड़ प्यार कर रही थी। उसने गुजरात के एक स्थानीय सरकारी स्कूल का अध्ययन किया और अपनी स्कूली शिक्षा समाप्त करने के बावजूद उसने आगे की पढ़ाई नहीं की।
                                     
                       who buy taj mahal from natwarlal
Best inspirational real life stories in hindi मिथिलेश कुमार से नटवर लाल बनने की दो अलग कहानियां हैं. पहल कहानी के मुताबिक बिहार के सीवान जिले के बंगरा गांव का रहनेवाला मिथिलेश कुमार श्रीवास्तवधनी जमींदार रघुनाथ प्रसाद का बड़ा बेटा था. मिथिलेश पढ़ने में एक औसत छात्र था. पढ़ाई के बजाय फुटबॉल और शतरंज में उसकी रूचि ज्यादा थी. कहते हैं कि मैट्रिक के परीक्षा में फेल होने पर मिथिलेश को उसके पिता ने बहुता मारा. जिसके बाद वो कलकत्ता भाग गया. उस समय उसकी जेब में सिर्फ पांच रुपए थे. कलकत्ता में मिथिलेश ने बिजली के खंभे के नीचे पढ़ाई की. बाद में सेठ केशवराम नाम के एक बंदे ने मिथिलेश को अपने बेटे को पढ़ाने के लिए रख लिया. मिथिलेश ने सेठ से अपनी स्नातक की पढ़ाई के लिए पैसे उधार मांगेजिसे सेठ ने देने से इनकार कर दिया. सेठ के इनकार करने से मिथिलेश इतना चिढ़ गया कि उसने रुई की गांठ खरीदने के नाम पर सेठ से 4.5 लाख ठग लिया.

who buy taj mahal from natwarlal दूसरी कहानी ये कहती है कि एक बार मिथिलेश को उनके पड़ोसी सहाय ने बैंक ड्राफ्ट जमा करने के लिए भेजा. वहां जाकर मिथिलेश ने सहाय के हस्ताक्षर को हूबहू कॉपी किया. उस समय मिथिलेश को पहली बार लगा कि वो जालसाजी का काम कर सकता है. उस दिन के बाद से मिथिलेश कुछ दिनों तक अपने पड़ोसी के खाते से पैसे निकालता रहा. जब मिथिलेश के पड़ोसी को इस बात की भनक लगीतब तक मिथिलेश अकाउंट से 1000 रुपए निकाल चुका था. पता चलने के बाद मिथिलेश कलकत्ता चला गया और वहां जाकर कॉमर्स से ग्रेजुएशन किया. साथ ही शेयर बाजार में दलाली का काम करने लागा.

Related Video;-



No comments :

No comments :

Post a comment